देव बड़ेयोगी मंदिर करसोग

करसोग में बहुत से देवताओं के विभिन्न मंदिर है । उन में से एक है देव बड़ेयोगी जी का मंदिर ।  देव बड़ेयोगी जी करसोग के मुख्य देवी देवताओं में से एक है ।देव बड़ेयोगी अपने कड़े नियमों के लिए जाने जाते है ।  वैसे तो देव बड़ेयोगी जी के अनेकों मंदिर है परन्तुं इनके मुख्य पांच मंदिर है । देव […]

Continue Reading
koyla mata temple

Koyla Mata Temple Rajgarh /कोयला माता मंदिर राजगढ़

कोयला माता मंदिर राजगढ़ मंडी जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर की दुरी पर है और बग्गी से 5 किलोमीटर दूर है । कोयला माता को केवल स्थानीय लोग ही नहीं बल्कि दूर दूर के लोगों की भी माता पर गहरी आस्था है। ऐसा माना जाता है कि कोलासुर नामक राक्षस का वध तथा देवी के […]

Continue Reading
bhimakali temple

Bhimakali Temple Sarahan/भीमाकाली मंदिर सराहन

भीमाकाली मंदिर सराहन शिमला जिले मैं स्थित है ये शिमला जिला मुख्यालय 180 किलोमीटर की दुरी पर है और रामपुर से 30 किलोमीटर ये मंदिर समुद्रतल से 2400 मीटर की ऊंचाई पर है ये 51 शक्तिपीठों में से एक है सराहन किन्नौर जिला के द्वार पर स्थित है जिसका रास्ता 7 किलोमीटर नीचे सतलुज के […]

Continue Reading

देशु माता मंदिर फागु शिमला/Deshu Mata Fagu Shimla

देशु माता मंदिर फागु शिमला देशु माता  मंदिर जिला शिमला में  ढल्ली से 10 किलोमीटर दूर फागु के पास है ।फागु से मंदिर तक 20 मिनट का पैदल रास्ता है  ।मंदिर ऊँची पहाड़ी पर स्थित है और यहाँ से आसपास का दृश्य बड़ा मनमोहक दिखाई देता है। सर्दियों में यह मंदिर मंदिर बर्फ से ढका […]

Continue Reading
dev dwahli karsog

देव दवाहली करसोग/Dev Dawahali Karsog

देव दवाहली करसोग देव द्वाहली का मंदिर करसोग की शाहोट पंचायत में है । यह करसोग से लगभग 40 किलोमीटर कि दुरी पर है । यह मंदिर एकांत स्थान पर बनाया गया है । खनेओल बगडा से यह मंदिर बिलकुल सामने निचे कि और दिखायी देता है । इस देवता में स्थानीय लोगों के अलावा बाहर के कई क्षेत्रों […]

Continue Reading
BIJLI MAHADEV KULLU

बिजली महादेव कुल्लू/Bijli Mahadev Kullu

बिजली महादेव कुल्लू कुल्लू से यह मंदिर व्यास को पार करके 14 किलोमीटर कि दुरी पर समुद्रतल से लगभग 2435 मीटर कि ऊँचाई पर स्थित है । इस मंदिर कि वास्तुकला अद्भुत है । भूमि से ऊपर कि ओर मजबूत पत्थर से निर्मित इस मंदिर का उपरी भाग लकड़ी से बना है जो पहाड़ी शैली […]

Continue Reading
Aananu Devta Mahaveer

आनणु देवता महावीर / Aananu Devta Mahaveer

आनणु देवता महावीर आनणु देवता महावीर गाँव पढ़ारनी तहसील बंजार में स्थित है । आनणु देवता जी का मूल स्थान किन्नौर में है । मंदिर का भंडार पढ़ारनी में ही है । मंदिर साढ़े तीन मंजिला है और काष्ट कुणी विधि से कोट शैली में बना है । मंदिर कि तीसरी मंजिल में चारों और बरामदा । छत स्लेट कि बनी […]

Continue Reading
Anant Balunag Temple Banjar

Anant Balunag Temple Banjar / अनंत बालुनाग मंदिर बंजार

अनंत बालुनाग मंदिर बंजार अनंत बालुनाग जी का मंदिर गाँव तांदी तहसील बंजार में स्थित है ।यह बंजार से 22 किलोमीटर कि दुरी पर है । मंदिर का मूल स्थान बालो  में है और तांदी में साढ़े तीन मंजिला भण्डार है । मंदिर के अभिलेखों के अनुसार मंदिर का उपरी आवरण वि.सं.512  का है । छत पर […]

Continue Reading
Vishveshwar Temple Bajoura Kullu

Vishveshwar Temple Bajoura Kullu / विश्वेश्वर मंदिर बजौरा  कुल्लू

विश्वेश्वर मंदिर बजौरा  कुल्लू कुल्लू घाटी में प्राचीन वास्तुकला एवं शिल्प कि दृष्टि से बजौरा का विश्वेश्वर मंदिर देखने योग्य है। यह मंदिर मुख्य सड़क व व्यास नदी के बीच में स्थित है । शिखर शैली का यह एक सजीव उदाहरण है । कुल्लू क्षेत्र का यह स्थल प्राचीन शैव केन्द्र भी माना जाता है […]

Continue Reading

सोमेश्वर महादेव सोमाकोठी करसोग / Someshwar Mahadev Somakothi Karsog

सोमेश्वर महादेव सोमाकोठी करसोग                    बारह ज्योतिर्लिंगों में एक सोमेश्वर महादेव जी का मन्दिर जिस के बारे में सभी जानते हैं कि जिला मंडी के  करसोग से 25 कि. मी. दूर स्थित है |जैसा कि नाम से मालूम पड़ता है कि महादेव यानि भगवानशिव जी का मन्दिर […]

Continue Reading